Tag Archives: Hindi Poem

आशीर्वाद

माँ आँचल तेरा है समुन्दर से गहरा किनारे की अहमियत ही कहाँ थी तू जो है साथ मेरे माँ मुझे बेगानों की ज़रुरत ही कहाँ थी पापा सपनों कि कमी न होने दी आपने ख्वाहिशें हमारी की पूरी खुदके सपनों … Continue reading

Posted in हिन्दी | Tagged , , , , , , , | Leave a comment