Tag Archives: काव्य

हर दिन – होली हैं

प्रकृति के रंग अनेक इंसानों के ढंग अनेक सुख दुःख की होती यहाँ आँख मिचौली हैं जीवन के रंग मंच पर तो भाई, हर दिन – “होली हैं”

Posted in हिन्दी | Tagged , , | 1 Comment

ये दिल

हर गम भूल जाने को कहता है ये दिल, अब जख्म न सहने को कहता है ये दिल, टूट चूका ये जितना टूटना था- अब न ये टूट पायेगा, अब तो बिखरे टुकडो पे भी, रोने को न कहता है … Continue reading

Posted in हिन्दी, કાવ્ય | Tagged , | 6 Comments