Author Archives: अविनाश (Scrapwala)

“Mere paas Maa hai …” … Sahir Ludhianvi

“Of all the rights of women, the greatest is to be a mother’ so today on the international day of women, we pay our tributes to women and the ‘mother’ in them. “Swami Tinhi Jagaacha Aai vina Bhikaari” … Goes … Continue reading

Posted in English | Tagged , , , | Leave a comment

‘किरमिच’ … ( ‘Canvas of Life’ )

समय कि कूंची चली है यादों के दृश्य बिखरे है जिंदगी के ‘किरमिच’ पर आज कई रंग उभरे है रंगीन कुछ कुछ काले, कुछ निखरे कुछ धुन्धलाये लेकिन सब ऐसे, जैसे दिल खोल के जी आये कई जज़्बात इनमे बोल … Continue reading

Posted in हिन्दी, કાવ્ય | Tagged , , , | Leave a comment

हौसला

पेंच उलझते जा रहे थे मुश्किलें बढती जा रही थी बर्दाश्तगी छटपटाने लगी थी सांस घुंटने लगी थी लगता था जैसे हर मोड पर साज़िश शतरंज बिछाये है, मैं दांव चल नहीं रहा था और वो जीत कि ग़लतफहमी में … Continue reading

Posted in हिन्दी, કાવ્ય | Tagged , , , | Leave a comment

Music and Life : Geet Gaataa Chal …

Music for all of us is a part of our life, or should I say it is ‘religion’ for all of us, or may be more than that. It is also a positive force that keeps us going and a … Continue reading

Posted in English | Tagged , , , , , | Leave a comment

बादल

दूर आसमान में बादल मुझको मतवाला बनाता बादल कभी दिलवाला, कभी अलबेला बादल, ‘मन मोर’ को नचाता, कभी मदहोश कर देता बादल, कभी अटखेलियाँ करता बादल, कभी अकेले ही घटाओंसे लड़ता बादल, झरोखें से मुझको देखता बादल, कभी मेरा पीछा … Continue reading

Posted in हिन्दी, કાવ્ય | Leave a comment

क्रांति तीर्थ

झांको कभी उनके जीवन में भी ज़रा झोंक दिया जिन्होंने जीवन को अपने, और अर्पण कर दिया अपना सब कुछ, मातृभूमि के चरणों में कितने अनाम हुए शहीद कितनों के नाम भी हम भूल गए, हमें आज़ाद देखने की धुन … Continue reading

Posted in हिन्दी, કાવ્ય | Leave a comment

मैं पतंग बन जाऊँ… 2…

Main Patang Ban Jaaun – Part II I get to travel a lot due to my postings at various places, which give me a chance to know of the ‘diverse’ culture and traditions of our country. I realized how rightly … Continue reading

Posted in हिन्दी, કાવ્ય | Leave a comment

Dil fida karte hain, Qurbaan jigar karte hain…

‘Dil fida Karte Hain Qurbaan Jigar Karten Hain Paas Jo Kuchh Bhi Hai Mata Ki Nazar Karte Hain दिल फ़िदा करते हैं कुर्बान जिगर करते हैं पास जो कुछ भी हैं माता कि नज़र करते हैं’ “Even if I have … Continue reading

Posted in English | Leave a comment

रूद्र तांडव

हर गली नुक्कड़ पे हर रस्ते चौराहे पे ‘वहशी- दरिंदे’ पल पल उभरते हैं जैसे भयानक चेहरे, हों अनगिनत शीश इनके, वही सूरत हर जगह हैं मैं किस किस से लडूं ! लाख चाहूँ पर रोक ना पाऊँ खौलती हैं … Continue reading

Posted in हिन्दी | Leave a comment

फिर जिंदगी को सुरीला बना दिया…

This poem is dedicated to – Atul ji, and the lovely blog ‘atulsongaday.me’, to all ‘team Atul members’, dedicated to all my seniors, fellow contributors on this blog, well wishers and supporters of the blog; http://atulsongaday.me/ फिर जिंदगी को सुरीला … Continue reading

Posted in हिन्दी, કાવ્ય | 4 Comments