हर दिन – होली हैं

प्रकृति के रंग अनेक
इंसानों के ढंग अनेक

सुख दुःख की होती
यहाँ आँख मिचौली हैं

जीवन के रंग मंच पर
तो भाई,
हर दिन – “होली हैं”

આ રચનાને શેર કરો..
This entry was posted in हिन्दी and tagged , , . Bookmark the permalink.

One Response to हर दिन – होली हैं

  1. નિરાલી says:

    Absolutely! Short n Superb! 🙂

Leave a Reply