दिल और दर्द

# प्यार का दर्द तुम क्या जानो ,अय दोस्त !

दिखते नहीं ये ज़ख्म दिखाने से ..

# जिसका दिल टूटा हो वहीँ उस दर्द को जाने ,
इसका हमदर्द बनना सबके बस की बात नहीं ..

# ज़ख्म हमने भी पाए है राह-ए- मोहब्बत में ,
बेवफा से वफ़ा की उम्मीद करना कोई छोटी गलती तो नहीं !

# आँखों में आश, दिल में प्यार लिए बैठें है,
आश आँसु ना बने इतनी परवाह करना ..

# दुःख इस बात का नहीं कि वो हमारी ज़िन्दगी में न आ सके ,
दुःख तो इस बात का है कि वो बदनसीब हमें न पा सके.!

# बड़ा पक्का रिश्ता है दिल, दर्द और आंसुओ का ,
काश ! ये यारी असल ज़िन्दगी के रिश्तों में भी पाई जाती !

# करके इश्क इन्शान से , गम ही गम पाये
अय बन्दे ,
करता इश्क खुदा से तो हर ख़ुशी तेरी होती !!!

આ રચનાને શેર કરો..
This entry was posted in શેર-શાયરી.... Bookmark the permalink.

7 Responses to दिल और दर्द

  1. નિરાલી says:

    Hey, nice.. But not to the level you have reached.. Yet, liked 3rd & 7th.. Keep it up.. 🙂

  2. જયદીપ લીમ્બડ મુંદરા says:

    Very Nice
    Keep it up..

  3. SHARAYAN ( DR. SHREENIWAS RAUT ) says:

    DIL HI DIL HAI , KAHA HAI DARD ?

    khuda kasam usake na kehne parbhi mar mitenge .
    mera dil hai, chahe to tuzape bhi mar mitenge .

    dost ye dil lagane ke liye hai , dil se na kuch laga lena .
    ghav to apanose bhi aate hai , wohi sikha dete hai jina .

    tune ekase pyar kiya , aur chot khayi .
    hamane to sau thokar khake hi, khudki murat banayi .

    tera dil tuzase hasin hai , ye to teri tanhai tuze muz tak layi.
    warana meri likhavat ke liye , kai jane tarasai .

    chhod de ye dard , dil ki dillagiyoko apana le .
    mai to rahi hu pyarka , tu bhi teri rah chun le .

    SHARAYAN ( DR. SHREENIWAS RAUT )

  4. અપેક્ષા સોલંકી says:

    Good work.. Keep up!

Leave a Reply