यादें…

बीते हुए कल से बनती है यादें,
कभी हसाती तो कभी रुलातीं है यादें,
होठों पे हंसी,
आँखों में नमीं,
हर पल कुछ, सिखाती हैं ये यादें,

अपनों के प्यार की,
बीते लम्हों की,
हर पल याद दिलाती है ये यादें,
भुलाना मुश्किल होती है ये यादें,
दिल के किसी कोने में ये बस जाती है,
कुछ लोगो की जिंदगी के लिए तो ,
जिंदगी ही बन जाती हैं, ये यादें

बीत जाते हैं पल,
और उनसे मिले ज़ख्म भी भर जातें हैं,
पर जिंदगी में आगे बढते हुए,
उन ज़ख्मों को भुला नहीं पातें है,
कभी तो हसीन बहारों की तरह,
हर पल में नए रंग मिलते है,
जो चेहरे पे मुस्कराहट बन,
गुलों की तरह खिलते हैं,
महकाती है ‘गुलशन’ जिंदगी का ये यादें,

कभी हंसाती तो कभी रुलाती,
भूले से नहीं भुलाई जाती हैं ये यादें,
होठों पे हंसी,
आँखों में नमीं,
हर पल कुछ  सिखाती हैं ये यादें…

આ રચનાને શેર કરો..
This entry was posted in हिन्दी, કાવ્ય. Bookmark the permalink.

4 Responses to यादें…

  1. b r bawsay says:

    Duniya mein Yade badi khas hoti hai,
    jo dur hai unke Dil ke pas hoti hai,
    Yaad karne ke liye wajah jaruri nahi,
    Yade Rishto ke beech ka Ehsaas hoti hai…..

  2. નિરાલી says:

    यादें.. यादें.. यादें.. 🙂

    Very true.. Memories play a very important role in our life.. Nice.. Keep up..

  3. અપેક્ષા સોલંકી says:

    Memory… is the diary that we all carry about with us.
    Oscar Wilde

    Good 1 dear, keep up.. 🙂

  4. આશિષ says:

    दूर है जो अपने उन्हें करीब लाती है यादें,
    दिल के आईने में तस्वीर सी बन जाती है यादें..

    कभी होठों पे खुशियों के फूल खिलाती है,
    कभी आंखोमे मोतियों की बरात लाती है यादें..

    Fantastic poem Aashu…

    Keep up the good work…!!!
    Want a lot more from you….. 🙂

Leave a Reply