एक शेर..

आहिस्ता आहिस्ता हालात और खयालात बदल जाते है,
उम्र के साथ लोगों के जज़्बात बदल जाते है..
ना कर भरोसा इन तस्वीरों पर “आश”,
दिन बदलतें है तो चहरेभी बदल जाते है…

આ રચનાને શેર કરો..
This entry was posted in हिन्दी, શેર-શાયરી.... Bookmark the permalink.

4 Responses to एक शेर..

  1. Hema says:

    तो अब आप शायर भी बन गए..

    वाह वाह…….. वाह वाह……

  2. નિરાલી says:

    “मैं शायर तो नहीं.. मगर ए हसीं, जब से देखा मैंने तुझको, मुझको शायरी आ गयी..” – aSh 😉 😀

    Nothing is permanent except change.. 🙂
    But never change yourself that much that you loose your originality..

  3. chavda ramanbhai ptc mundra says:

    ખુબ સરસ તમારી કુતિ લાગી .

Leave a Reply